Myths about hymen : हाइमन और वर्जिनिटी के टैबू से बाहर निकलिए, क्योंकि ये 5 बातें हैं बिल्कुल झूठ

[ad_1]

हमारे आसपास के लोग अब भी सैनेटरी पैड्स को काले लिफाफे में पैक करके रखते हैं। जबकि हाइमन की कथा पीढ़ी दर पीढ़ी बांची जा रही है। बिना किसी वैज्ञानिक आधार के हाइमन को किसी भी लड़की के कैरेक्टर का सर्टिफिकेट मान लिया जाता है। जबकि वास्तविकता इससे बहुत अलग है। हाइमन और वर्जिनिटी के सोशल टैबू के लिए इस बार डॉ. क्यूटरस यानी तनाया नरेंद्र बता रहीं हैं हाइमन के बारे में फैले हुए कुछ मिथ्स (Myths and facts about hymen) की सच्चाई।

आपके शरीर का कोई पतला सा टिश्यू इतना मजबूत नहीं है, कि वह आपकी पर्सनल लाइफ पर सवाल उठा सके। लड़की वर्जिन है या नहीं, इसक प्रमाण अकसर हाइमन या योनि झिल्ली को मान लिया जाता है। बरसों से यह मिथ फैला हुआ है कि लड़की जब पहली बार सेक्स करती है, तो उसका हाइमन टूट जाता है। इसकी वजह से उसकी योनि से खून बहने लगता है। इसका मतलब यह लगाया जाता है कि लड़की अपनी वर्जिनिटी खो चुकी है। जबकि सच्चाई यह है कि ऐसा हर लड़की के साथ नहीं होता।

इसलिए इन मिथ्स को तोड़ने के लिए डॉ. क्यूटरस ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट साझा की। आइए जानते हैं हाइमन के बारे में कुछ जरूरी फैक्ट।

सबसे पहले जानिए क्या है हाइमन

योनि के मुंह पर यानी वल्वा के ऊपर एक पतली झिल्ली होती है। इसे ही हाइमन (Hymen) कहा जाता है। यह सॉफ्ट टिश्यू से बनी होती है। यह वल्वा को ढके रखती है। इसकी बनावट योनि जैसी ही होती है। ऐसा माना जाता है कि योनि में पेनिट्रेट किए जाने पर हाइमन टूट जाता है। पहली बार सेक्स करने पर योनि से ब्लड निकल भी सकता है और नहीं भी।

सेक्स के कारण योनि से ब्लड फ्लो होने की कई दूसरी वजहें भी हो सकती हैं। सेक्स के लिए पूरी तरह तैयार न होने पर, मन में किसी प्रकार का स्ट्रेस होने पर तथा इंफेक्शन से भी योनि से ब्लड निकल सकता है। हाइमन संबंधी कई मिथ्स हैं, जिनके बारे में सही जानकारी होना हर लड़की के लिए जरूरी है।

अभी से बंद कर दीजिए हाइमन से जुड़े इन मिथ्स पर भरोसा करना

मिथ 1 : हाइमन योनि के मुंह को पूरी तरह बंद रखता है

फैक्ट्स : ये सबसे बड़ा मिथ है। यदि हाइमन योनि के मुंह को पूरी तरह बंद रखता, तो पीरियड ब्लड बाहर रिलीज नहीं हो पाता। कुछ लड़कियों में यह दिक्कत होती है। उनकी योनि हाइमन से पूरी तरह ढकी होती है। जिसके लिए उन्हें ऑपरेशन से योनि का मुंह खुलवाना पड़ता है।

मिथ 2 : हाइमन सिर्फ पेनिट्रेशन के लिए बना है

फैक्ट : ऐसा माना जाता है कि हाइमन सिर्फ पेनिस के लिए बना होता है, जो पेनिट्रेशन के बाद फट जाता है। हाइमन का पेनिट्रेशन से कोई मतलब नहीं होता है। कई बार सेक्स करने पर भी यह फैल जाता है, फटता नहीं।

मिथ 3 : पहली बार सेक्स पर ब्लीडिंग न होने का मतलब है हाइमन पहले खुल चुका है

फैक्ट: यह बिल्कुल गलत है। कई बार टैम्पोन, सेक्स टॉय या उंगली डालने पर भी हाइमन फट जाता है। पहली बार सेक्स करने पर हाइमन में खिंचाव हो सकता है, जिससे दर्द या ब्लीडिंग हो सकती है। बाइक चलाने या फिर साइकिलिंग करने से भी हाइमन खुल जाता है। यह एक नाजुक झिल्ली है, जो एक बार टूटने के बाद दोबारा नहीं जुड़ती।

zaruri nahi hai ki sabhi ko first time sex ka bad bleeding hoजरूरी नहीं है कि हर लड़की को पहली बार सेक्स के बाद ब्लीडिंग हो। चित्र:शटरस्टॉक

मिथ 4 : पहली बार सेक्स करने पर हाइमन टूटता है

फैक्ट : हाइमन कभी टूटता नहीं है। हाइमन एक टिश्यू है। टिश्यू में कट लग सकता है। यह फैल सकता है या अंदर की ओर जा सकता है, लेकिन यह टूटता नहीं है। एस्ट्रोजन हार्मोन हाइमन की इलास्टिसिटी को बरकरार रखता है। यह सेक्स के बाद अंदर भी जा सकता है। उम्र, सेक्स और एक्सरसाइज के अलावा, प्रेगनेंसी के बाद हाइमन फैल जाता है।

मिथ 5 : वर्जिनिटी की पहचान है हाइमन

फैक्ट : ऊपर वाले 4 फैक्ट ने कम से कम इस पांचवें मिथ को तो तोड़ ही डाला होगा। असल में हाइमन की स्थिति से किसी भी लड़की या महिला की वर्जिनिटी के बारे में नहीं बताया जा सकता है। हाइमन को देखकर गायनेकोलॉजिस्ट के लिए भी आपकी सेक्स एक्टिविटी के बारे में अंदाजा लगाना मुश्किल है। इसलिए हाइमन और वर्जिनिटी इन दोनों में जितना कम उलझें उतना बेहतर।

यह भी पढ़े- फोर प्ले से लेकर कडलिंग तक, यहां हैं वे चीजें जो आपको ऑर्गेज़्म तक पहुंचा सकती हैं

[ad_2]

Leave a Reply

Your email address will not be published.